[500 शब्द] Essay on sare jahan se achha hindustan hamara in hindi

Table of Content

  1. Essay on sare jahan se achha hindustan hamara in Hindi
  2. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा से संबंधित सवाल – जवाब

In this article we are sharing essay on sare jahan se achha hindustan hamara in Hindi. This article is about “सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा पर निबंध 500 शब्दों में.”

This post can help the students who are looking “sare jahan se achha hindustan hamara par nibandh in Hindi”. This post is briefing about “sare jahan se achha hindustan hamara ka nibandh” which is very useful for school student.

This essay on sare jahan se achha hindustan hamara is generally useful for class 7, class 8, class 9 and 10.



essay on sare jahan se achha hindustan hamara in hindi

सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा पर निबंध – sare jahan se achha hindustan hamara ka nibandh

प्रस्तावना

भारत में रह रहे सभी नागरिकों के लिए भारत एक स्वर्ग के समान है। इस देश में हम जन्म लिए तथा इसकी गोद में खेल कूद कर हम बड़े हुए हैं। देश की धरती से उत्पन्न अन्न जल द्वारा हमारा पालन-पोषण हुआ, इसलिए देश में रह रहे प्रत्येक व्यक्ति का यह कर्तव्य है कि हम अपने देश से प्रेम करें तथा इसकी सुरक्षा के लिए आवश्यकता पड़ने पर अपनी जान भी निछावर कर दें।


देश का नामकरण

प्राचीन काल के महाराजा दुष्यंत के पुत्र भरत के नाम पर ही हमारे देश का नाम भारत पड़ा। देश में हिंदू धर्म की बहुलता के कारण इसे हिंदुस्तान के नाम से भी जाना जाता है।


भारत की सीमाएं

हमारे भारत देश के उत्तर में कश्मीर तक, तथा दक्षिण में कन्याकुमारी तक, और पूर्व में अरुणाचल तथा पश्चिम में गुजरात तक फैला हुआ है। हमारा देश भारत का पडोसी देश चीन, पाकिस्तान, श्रीलंका, भूटान, म्यांमार है। भारत तीन तरफ से समुद्र से घिरा हुआ है।


विभिन्न धर्मो का संगम

हमारा देश भारत पुरे विश्व का सबसे बड़ा प्रजातान्त्रिक देश है। यहां पर हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई, पारसी, यहूदी, बौद्ध, जैन आदि धर्मो के अनुयायीं मिल-जुलकर निवास करते हैं। यहां सभी धर्मो के मानने वालों को अपने-अपने ईश्वर की पूजा करने की पूरी स्वतन्त्रता है। इस प्रकार भारत देश एक कुटुम्ब के समान है। जिस कारण इसे विभिन्न धर्मो का संगम स्थल भी कहा जाता है।


भारत का प्राकृतिक सौन्दर्य

हमारा देश भारत का प्राकृतिक सौन्दर्य केवल भारतवासियों को ही मोहित नहीं करता बल्कि विदेश में भी इससे प्रभावित होकर विदेशी हर साल काफी संख्या में भारत आते हैं। हमारा देश वह देश है जहां पर छह ऋतुएं समय-समय पर आती हैं और इस देश की धरती को अनेकों प्रकार के अनाज, फूलों एवं फलों से भर देती है।


भारत के पर्वत, निर्झर, रेगिस्तान, वन-उपवन, हरे-भरे मैदान एवं समुद्रतट इस देश की शोभा के अंग हैं, जहां एक ओर कश्मीर में स्वर्ग दिखाई पड़ता है, वहीं दूसरी ओर केरल की हरियाली स्वर्गिक आनन्द से परिपूर्ण करती है। यहां अनेक नदियां हैं जो वर्ष भर इस देश की धरती को सींचती हैं, उसे हरा-भरा बनाती हैं और अन्न उत्पादन में हमेशा सहयोग करती हैं।


महापुरुषों की धरती

इस देश को महापुरुषों की धरती भी कहा जाता है। यहां पर ऋषि-मुनियों ने जन्म लिया, जिन्होंने वेदों की रचना की तथा -उपनिषद् और पुराणों की रचना की। यहां श्रीकृष्ण का जन्म हुआ जिन्होंने गीता का ज्ञान देकर विश्व को कर्म का पाठ पढ़ाया। यहीं पर भगवान राम का जन्म हुआ, जिन्होंने मानव को अहिंसा की शिक्षा दी। यहां पर बड़े-बड़े प्रतापी सम्राट अशोक, अकबर, चन्द्रगुप्त मौर्य, विक्रमादित्य आदि हुए जिनका नाम विश्व भर में सुनहरे अक्षरों में लिखा है।आधुनिक काल में गरीबों के मसीहा महात्मा गाँधी, शान्तिदूत पं० जवाहर लाल नेहरू, विश्व मानवता के प्रचारक रवीन्द्र नाथ टैगोर का जन्म भी इसी महान देश में हुआ था।


उपसंहार

इस प्रकार धर्म, संस्कृति, दर्शन का संगम, संसार को शान्ति तथा अहिंसा का सन्देश देने वाला, यह भारत देश मुझे बहुत प्रिय है, इसकी इन्हीं विशेषताओं से आत्ममुग्ध होकर महान शायर इकबाल ने कहा था सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा। हम बुलबुले हैं इसकी यह गुलिस्तां हमारा।


You May Also Like




सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा से संबंधित सवाल – जवाब

  1. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा क्या होता है?
  2. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा एक राष्ट्रगान है जो भारत के गौरव, संघर्ष और एकता को दर्शाता है। यह गाना भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भी उपयोग किया गया था।

  3. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमार” का अर्थ क्या होता है?
  4. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा का अर्थ होता है कि हमारा देश दुनिया के हर देश से बेहतर है। इस राष्ट्रगान में हमारे देश के संस्कृति, जनता और स्वतंत्रता के लिए बलिदान करने वाले लोगों की प्रशंसा की गई है।

  5. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा का रचयिता कौन है?
  6. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा के रचयिता मोहम्मद इक़बाल हैं। वे एक भारतीय शायर, लेखक, फ़िलोसोफ़ और सामाजिक नेता थे।

  7. क्या सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा केवल भारत में ही गाया जाता है?
  8. नहीं, यह राष्ट्रगान भारत के अलावा भी अन्य देशों में बहुत प्रचलित है। इसे पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफ़ग़ानिस्तान और नेपाल जैसे देशों में भी बड़ी शान से गाया जाता है।

  9. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा को कब अपनाया गया था?
  10. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा को 1904 में लिखा गया था। यह राष्ट्रगान ब्रिटिश इंडिया के विद्रोह के दौरान लिखा गया था।

  11. क्या सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा एक धर्म-विशेष गाना है?
  12. नहीं, सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा एक राष्ट्रगान है जो सभी धर्मों के लोगों के लिए समान रूप से लिखा गया है। इस गाने के लिखक मोहम्मद इक़बाल एक मुस्लिम थे लेकिन उन्होंने इस गाने में सभी धर्मों के लोगों की प्रशंसा की है।


We hope you like this post about essay on sare jahan se achha hindustan hamara in Hindi. Our aim is to help the students to do their homework in an effective way. This was a “sare jahan se achha hindustan hamara par nibandh in Hindi”. It is generally asked the students in their classes to write essay on sare jahan se achha hindustan hamara.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top